Quote :

“समर्पण के साथ किया गया हर कार्य सफल होता है” - अज्ञात

Science & Technology

हमारे दिमाग में भी होता है एक कंपास

Date : 09-Jun-2024

  

क्या आपने कभी सोचा है कि हम दिशाओं को कैसे याद रखते हैं. अपने आसपास के वातावरण कैसे कहां जाना है ये अंदाज लगा लेते हैं. किस तरह एक स्वाभाविक दिशाबोध खुद ब खुद हमें हो जाता है. वैज्ञानिकों का कहना है कि हमारे दिमाग में भी एक कंपास होता हैजो दिशाज्ञान में हमारी मदद करता है.

नेचर ह्यूमन बिहेवियर जर्नल में प्रकाशित एक नए अध्ययन के अनुसारशोधकर्ताओं ने मस्तिष्क गतिविधि के एक पैटर्न की पहचान की है जो हमें कहीं भी भटकने से रोकने में मदद करता है.

बर्मिंघम विश्वविद्यालय और म्युनिख के लुडविग मैक्सिमिलियन विश्वविद्यालय की एक टीम की स्टडी पहली बार ये बताने में कामयाब हुई है कि हमारे शरीर और ब्रेन में एक तंत्रिका कम्पास जैसी चीज होती हैजिसका उपयोग मानव मस्तिष्क खुद पर्यावरण के माध्यम से नेविगेट करने के लिए करता है.

कैसे वैज्ञानिकों ने मानव मस्तिष्क में कंपास को पाया

चलते समय मनुष्यों में तंत्रिका गतिविधि को मापने की चुनौती पर काबू पाने के लिएशोधकर्ताओं ने मोबाइल ईईजी उपकरणों और मोशन कैप्चर तकनीक का उपयोग किया. 52 स्वस्थ प्रतिभागियों के एक समूह ने गति-ट्रैकिंग प्रयोगों की एक श्रृंखला में भाग लिया. तब उनकी मस्तिष्क गतिविधि को स्कैल्प ईईजी के माध्यम से दर्ज किया गया.

भविष्य के काम मेंशोधकर्ता यह जांचने की कोशिश करेंगे कि मस्तिष्क समय के माध्यम से कैसे नेविगेट करता हैयह पता लगाने के लिए कि क्या समान न्यूरोनल गतिविधि मेमोरी जिम्मेदार है.

ये कैसे काम करता है

शोधकर्ताओं का सुझाव है कि मस्तिष्क वास्तव में हिले बिना मस्तिष्क में इच्छित दिशा का अनुकरण करने के लिए न्यूरॉन्स का उपयोग कर सकता है. वे मानते हैं कि हेड दिशा कोशिकाएं एक भूमिका से दूसरी भूमिका में बदल जाती हैंताकि वे लक्ष्य दिशा का अनुकरण करने से पहले ये बता सकें कि अभी आप कहां हैं और किधर की ओर सही रास्ता जा रहा है.

किसी में कम तो किसी में ज्यादा होती है ये क्षमता

मस्तिष्क के इस क्षेत्र में गतिविधि की ताकत किसी व्यक्ति के नेविगेशन कौशल से जुड़ी होती है. जो किसी में कम तो किसी में ज्यादा होती है. यह मस्तिष्क का वह क्षेत्र भी है जो अल्जाइमर जैसी बीमारियों से सबसे पहले क्षतिग्रस्त होने वाले क्षेत्रों में से एक हैजो यह बता सकता है कि खो जाना और भ्रमित होना पीड़ितों में एक आम प्रारंभिक समस्या क्यों है.

कंपास क्या करता है
कंपास का काम मुख्य दिशाओं का पता लगाना होता है. इसमें एक चुंबकीय सुई होती है जो स्वतंत्र रूप से घूम सकती है. जब कंपास को किसी जगह पर रखा जाता हैतो चुंबकीय सुई उत्तर-दक्षिण दिशा में घूम जाती है. कंपास सुई के लाल तीर को उत्तरी ध्रुव और दूसरे छोर को दक्षिणी ध्रुव कहा जाता है.
सीधे शब्दों में कहें तो कंपास एक उपकरण है जो उत्तरदक्षिणपूर्व और पश्चिम जैसी दिशाएं बताता है. इन्हें कार्डिनल दिशाओं के रूप में भी जाना जाता है.

 

कंपास किसने बनाया
इतिहासकारों का मानना है कि पहला कंपास चीनियों ने पहली शताब्दी के आस-पास बनाया था. हालांकि इसकी सटीक उत्पत्ति के बारे में इतिहासकार निश्चिंत नहीं हैं. चीन के हान राजवंश (202 ईसा पूर्व – 220 ईस्वी) के दौरान लॉडस्टोन से पहला कंपास बनाया गया था. लॉडस्टोन लोहे का एक प्राकृतिक रूप से चुंबकीय पत्थर है. चीनी वैज्ञानिकों ने 11वीं या 12वीं सदी में ही नेविगेशनल कंपास विकसित कर लिया होगा. 12वीं शताब्दी के अंत में पश्चिमी यूरोपीय लोगों ने भी इसका अनुसरण किया.

 

कंपास कितनी तरह के होते हैं
कम्पास के दो मुख्य प्रकार होते हैं: चुंबकीय कंपासजाइरो कंपास. चुंबकीय कंपास में एक चुंबकीय तत्व (सुई या एक कार्ड) होता है जो पृथ्वी के चुंबकीय ध्रुवों को इंगित करने के लिए पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र की चुंबकीय रेखाओं के साथ खुद को एडजस्ट करता है. चुंबकीय कंपास की सुई स्टील की बनी होती हैजिसे लंबे समय तक चुंबकित किया जा सकता है.

 

 
RELATED POST

Leave a reply
Click to reload image
Click on the image to reload









Advertisement