Quote :

आपकी सफलता का रहस्य आपके दैनिक कार्यक्रम से निर्धारित होता है - जॉन सी. मैक्सवेल

National

भारतीय आर्थिक सेवा के प्रोबेशनर्स ने राष्ट्रपति से मुलाकात की

Date : 16-Apr-2024

 नई दिल्ली, 16 अप्रैल । भारतीय आर्थिक सेवा (2022 और 2023 बैच) के प्रोबेशनर्स के एक समूह ने मंगलवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात की।



अधिकारियों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि देश के विकास में आर्थिक वृद्धि एक महत्वपूर्ण घटक है। मैक्रो और माइक्रो आर्थिक संकेतक प्रगति के उपयोगी मानक माने जाते हैं, इसलिए सरकारी नीतियों और योजनाओं को प्रभावी और उपयोगी बनाने में अर्थशास्त्रियों की भूमिका महत्वपूर्ण है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि चूंकि भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की ओर बढ़ रहा है, इसलिए आने वाले समय में उन्हें अपनी क्षमताओं को बढ़ाने और उनका पूरा उपयोग करने के अनगिनत अवसर मिलेंगे। राष्ट्रपति ने विश्वास व्यक्त किया कि वे इन अवसरों का समुचित लाभ उठाकर देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देंगे।



राष्ट्रपति ने कहा कि आर्थिक सेवा अधिकारियों से अपेक्षा की जाती है कि वे आर्थिक विश्लेषण और विकास कार्यक्रमों के डिजाइन के साथ-साथ संसाधन वितरण प्रणाली को मजबूत करने और योजनाओं के मूल्यांकन के लिए उचित सलाह प्रदान करें। यह बहुत महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है, क्योंकि उनके द्वारा दिए गए सुझावों के आधार पर ही नीतियां तय की जाएंगी।



राष्ट्रपति ने कहा कि आंकड़ों के विश्लेषण और साक्ष्य-आधारित विकास कार्यक्रमों के कार्यान्वयन से सरकार को लोगों के आर्थिक उत्थान में तेजी लाने में मदद मिली है। उन्होंने कहा कि यह युवा आईईएस अधिकारियों का कर्तव्य है कि वे नए विचारों, तरीकों और तकनीकों के माध्यम से अपनी कार्य कुशलता बढ़ाएं। राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी रचनात्मकता इस तेजी से बदलते युग में देश के लिए प्रगति के नए द्वार खोलने में मदद करेगी।



राष्ट्रपति को यह जानकर प्रसन्नता हुई कि 2022 और 2023 बैच के 60 प्रतिशत से अधिक आईईएस अधिकारी महिला अधिकारी थे। उन्होंने कहा कि महिलाओं की बढ़ती भागीदारी से भारत के समावेशी विकास के संकल्प को पूरा करने में मदद मिलेगी। उन्होंने महिला अधिकारियों से महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए काम करने का आग्रह किया।



राष्ट्रपति ने युवा अधिकारियों से आग्रह किया कि वे अपने कार्यस्थल पर नीति संबंधी सुझाव देते समय या कोई भी निर्णय लेते समय देश के गरीबों और पिछड़े वर्गों के हित को ध्यान में रखें।

 
RELATED POST

Leave a reply
Click to reload image
Click on the image to reload









Advertisement