Quote :

सत्य से कीर्ति प्राप्त की जाती है और सहयोग से मित्र बनाए जाते हैं -कौटिल्य अर्थशास्त्र

Editor's Choice

जानिए क्या है भारत के तिरंगे की कहानी

Date : 31-May-2023

 देश-दुनिया के इतिहास में 31 मई की तारीख तमाम वजह से दर्ज है। इस तारीख का भारत के लिए अहम है। इसी तारीख को 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने एक ध्वज को अपने अनौपचारिक झंडे के तौर पर मान्यता प्रदान की थी। इस झंडे का मसौदा युवा स्वतंत्रता सेनानी पिंगली वेंकैया ने कांग्रेस के विजयवाड़ा अधिवेशन में महात्मा गांधी के सामने प्रस्तुत किया था। इस झंडे में लाल और हरा रंग था। यह भारत के दो प्रमुख धर्मों का प्रतिनिधित्व करता था। महात्मा गांधी ने इसमें सफेद रंग और चरखे को भी लगाने की सलाह दी। सफेद रंग भारत के बाकी धर्मों और चरखा स्वदेशी आंदोलन और आत्मनिर्भर होने का प्रतिनिधित्व करता था। इसके कुछ समय बाद लाल रंग की जगह केसरिया ने ली और इसमें सफेद रंग भी शामिल कर लिया गया। चरखे के चक्र की डिजाइन में भी बदलाव हुआ। इस बदले हुए झंडे को कांग्रेस ने 1931 में पार्टी के आधिकारिक झंडे के रूप में मान्यता दी।

हालांकि इससे पहले झंडे के रंगों को धर्मों से जोड़ने पर विवाद भी हुआ। कई लोग झंडे में चरखे की जगह गदा जोड़ने की मांग करने लगे। कुछ लोगों ने गेरुआ रंग भी जोड़ने की मांग की। सिखों की मांग थी की या तो झंडे में पीला रंग जोड़ा जाए या सभी तरह के धार्मिक प्रतीकों को हटाया जाए। विवाद सुलझाने के लिए 1931 में कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने सात लोगों की कमेटी बनाई। कमेटी ने सलाह दी कि झंडे को केवल एक ही रंग का बनाया जाए। कमेटी का यह सुझाव खारिज कर दिया गया। इसी साल कांग्रेस ने पिंगली वेंकैया के बनाए झंडे को पार्टी के आधिकारिक झंडे के तौर पर मान्यता दी।

पहला झंडे को 1921 में कांग्रेस ने अनौपचारिक रूप से मान्यता प्रदान की। दूसरे झंडे को 1931 में कांग्रेस ने औपचारिक रूप से मान्यता दी। आजादी के बाद संविधान समिति ने कांग्रेस के इसी झंडे को कुछ बदलावों के साथ भारत का झंडा, यानी तिरंगा बनाने का फैसला लिया। इस झंडे में एक बड़ा बदलाव चरखे को लेकर किया गया। कांग्रेस के झंडे के बीच में जो चरखा था, उसकी जगह तिरंगे में अशोक चक्र लगाया गया। इस झंडे को पहली बार आजादी से कुछ दिन पहले 22 जुलाई, 1947 को आधिकारिक तौर पर फहराया गया था।

आजादी के बाद भारत धर्मनिरपेक्ष देश बना। इसलिए झंडे के रंगों की धर्म के आधार पर व्याख्या को बदल दिया गया। कहा गया कि इस झंडे के रंगों का धर्मों से कोई लेना-देना नहीं है। केसरिया को साहस और बलिदान, सफेद रंग को शांति और सच्चाई और हरे रंग को संपन्नता का प्रतीक माना गया। अशोक चक्र धर्मचक्र का प्रतीक है। पहले भारतीय नागरिकों को राष्ट्रीय पर्व के अलावा किसी भी दिन अपने घर और दुकानों पर झंडा फहराने की छूट नहीं थी। 2002 में इंडियन फ्लैग कोड में बदलाव किए गए। अब हर भारतीय नागरिक किसी भी दिन अपने घर, दुकान, फैक्टरी और कार्यालय में सम्मान के साथ झंडा फहरा सकता है।

 
RELATED POST

Leave a reply
Click to reload image
Click on the image to reload









Advertisement